प्राथमिक विद्यालय सरैया में समय से नहीं आते अध्यापक, विद्यालय आने में पठन पाठन बदहाल

शिक्षा

अलीम हाशमी की रिपोर्ट चंदौली जिले के शहाबगंज विकास क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय सरैया पर नियुक्त शिक्षक विद्यालय पर नियुक्त शिक्षक विद्यालय आने में कोई रुचि नहीं दिखाते घर बैठकर वेतन लेने में ही अपनी काबिलियत समझते हैं। नवरात्र की तीन दिन की छुट्टी के बाद बुधवार को विद्यालय खुला , लेकिन सुबह 10:30 बजे तक मात्र एक अध्यापिका सरोज देवी उपस्थित मिलीं। वहीं बच्चों की संख्या भी केवल 6 थी। परिषदीय विद्यालयों के संचालन के लिए सरकार लाखों रुपया खर्च कर रही है। लेकिन ऐसे लापरवाह शिक्षकों के सहारे विद्यालय का शैक्षणिक माहौल सुधारना मुश्किल हो रहा है।कहा जा रहा है कि मनमाने शिक्षकों के कारण नामांकित 120 बच्चों का भविष्य में अधर में है। जबकि विद्यालय में आधा दर्जन अध्यापकों की नियुक्ति है। यहां पर लापरवाह शिक्षकों रवैया बदल नहीं रहा है। यहां पूर्व में भी बीईओ द्वारा कई लोगों का वेतन काटा जा चुका है। वाबजूद इनके आदत में सुधार नहीं हो रहा है